दिग्विजय पर भड़के साक्षी महाराज,बोले- ट्वीट की नहीं, उन्हें ट्रीटमेंट की जरूरत

लखनऊ. साक्षी महाराज (Sakshi Maharaj) ने एक बार फिर दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह जिस तरीके से ट्वीट कर रहे हैं, इससे साफ जाहिर होता है कि दिग्विजय सिंह की मानसिक हालत ठीक नहीं है. उनको ट्वीट करने की नहीं बल्कि अपना ट्रीटमेंट करवाने की जरूरत है. साक्षी महाराज ने कहा कि दिग्विजय सिंह जिस तरीके से बयान दे रहे हैं, इससे साफ होता है कि उनको इलाज की सख्त से सख्त जरूरत है. क्योंकि ये पागलपन की निशानी है.दिग्विजय सिंह ने भूमि पूजन पर उठाये सवाल  

दरअसल कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन अशुभ मुहूर्त में किया जा रहा है. जिसके चलते भाजपा समेत कई नेता अस्पताल पहुंच गए हैं. उन्हें कोरोना हो गया है, क्योंकि भूमि पूजन अशुभ मुहूर्त में किया जा रहा है. इसके साथ ही यह सनातन धर्म का अपमान भी है. भाजपा सनातन धर्म को सर्वश्रेष्ठ मानती है फिर भी उसका अपमान क्यों कर रही है?

दिग्विजय सिंह का कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सहूलियत के हिसाब से यह तिथि तय की गई है जो कि गलत है. जिस तरीके से उत्तर प्रदेश में मंत्री का कोरोना से निधन हो गया. साथ ही एमपी सीएम शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह, यूपी बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, यूपी सरकार के मंत्री महेंद्र सिंह और अयोध्या में राम मंदिर के पुजारियों को कोरोना हुआ है. उससे साफ जाहिर होता है कि यह भूमि पूजन को अशुभ घड़ी में कराने की तैयारी का नतीजा है.साक्षी महाराज का पलटवार 

इस पर साक्षी महाराज ने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि वह मानसिक रूप से बीमार हो गए हैं. उनको अपना इलाज करवाना चाहिए. कोरोना ऐसी बीमारी है, जो किसी को भी हो सकती है. कांग्रेस नेता मुकुल वासनिक का भी कोरोना से देहांत हो गया तब क्या सही मुहूर्त में कांग्रेस ने उनका इलाज नहीं करवाया जो उनका देहांत हो गया. हालांकि हमें उनकी मौत का दुख है. लेकिन कांग्रेस के नेता जिस तरीके से बातें कर रहे हैं. वह उनकी मानसिकता को दिखाता है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह वैसे भी हमेशा से विवादित नेता रहे हैं. और उन्होंने हमेशा से ही ऐसे ही विवादित बयान दिए हैं. दिग्विजय सिंह की बातों पर क्या विश्वास करना.

साक्षी महाराज ने कहा कि भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने जो मुहूर्त निकाला था. तब पूरी तरीके से रक्तरंजीत हो गया था. और पूरे देश में खून की नदियां बही थीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो मुहूर्त निकाला है वह चाहे 370 का हो या राम जन्मभूमि फैसले का, दोनों ही सुख दे रहा है. और पूरे देश में एक पत्ता तक नहीं हिला. इसलिए कांग्रेस यह बातें करना छोड़ दें कि अशुभ मुहूर्त में भूमि पूजन हो रहा है. पहले वह अपनी मूरत को देखें कि उनके समय में किस तरीके का मुहूर्त निकाला गया था. और उस समय देश की क्या स्थिति हुई थी. देश में खून की नदियां बही थीं. ऐसे लोगों को राम जन्मभूमि के मुहूर्त पर बात करने का कोई अधिकार नहीं है.